विटामिन B2 का रासायनिक नाम Chemical Name of Vitamin-B2

विटामिन B2 का रासायनिक नाम Chemical Name of Vitamin-B2

हैलो दोस्तों आपका बहुत-बहुत स्वागत है, आज के हमारे इस लेख विटामिन B2 का रासायनिक नाम (Chemical Name of Vitamin-B2) में।

दोस्तों इस लेख के माध्यम से आज आप विटामिन B2 का रासायनिक नाम विटामिन B12 का रासायनिक सूत्र के साथ ही विटामिन बी2 की कमी से होने वाले रोग विटामिन B2 के कार्य तथा

शरीर के लिए आवश्यक मात्रा के बारे में तथा अन्य आवश्यक तथ्यों के बारे में जान पाएंगे, तो आइए दोस्तों शुरू करते और पढ़ते हैं, आज  यह लेख विटामिन B2 का रासायनिक नाम:-

विटामिन B2 का रासायनिक नाम


विटामिन बी 2 क्या है What is Vitamin-B2

विटामिन बी1 की तरह ही विटामिन B2 विटामिन बी कांपलेक्स समूह का विटामिन होता है, जो विटामिन बी कांपलेक्स समूह में दूसरे नंबर पर आता है। विटामिन बी2 भी अन्य प्रकार के विटामिनों की तरह एक प्रकार से कार्बनिक यौगिक होता है,

जो जल में आसानी से घुलनशील और वसा में अघुलनशील होता है। विटामिन B2 अधिकतर कार्बोहाइड्रेट, स्वसन क्रिया, तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करने का कार्य करता है, जबकि विभिन्न क्रियाओं मे सह विकर के रूप में उपस्थित भी रहता है।


विटामिन B2 का रासायनिक नाम Chemical name of Vitamin-B2

विटामिन B2 जिसका रासायनिक नाम राइबोफ्लेविन है, उसे विटामिन C1 और विटामिन G के नाम से भी जाना जाता है, जिसका रासायनिक सूत्र C17H20O6N4 होता है। विटामिन B2 का सबसे पहले प्रथककरण वारवर्ग तथा क्रिसिययन नामक वैज्ञानिक ने 1932 में किया था। तथा अनुसंधान के पश्चात

यह स्पष्ट हुआ, कि यह एक पीले प्रकार का एंजाइम भी है, तथा ए.ए.डी तथा एफ.ए. एन के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका भी निभाता है। यह वृद्धि और विकास के लिए बहुत आवश्यक विटामिन माना जाता है, जबकि कोएंजाइम का निर्माण फास्फोरिक अम्ल के साथ मिलकर कर देता है।


विटामिन B2 के स्त्रोत Source of Vitamin-B2

विटामिन B2 अर्थात राइबोफ्लेविन सभी प्रकार के खाद्य जैसे प्राणी और पादप जगत में विस्तृत रूप में पाया जाता है। जो बैक्टीरिया अवायवीय रूप में किण्वन क्रिया करते हैं, उन बैक्टीरिया में प्रचुर मात्रा में

विटामिन B2 पाया जाता है, जबकि विटामिन B2 दूध और दूध से बने उत्पादों में यकृत, वृक्क के साथ ही ईस्ट, पनीर, अंडा, हरी सब्जी, टमाटर, अनाज माँस, जिगर, गेंहूँ आदि में प्रचुर मात्रा में देखने को मिल जाता है।


विटामिन बी 2 की कमी से रोग Vitamin B2 deficiency disease

  1. अगर मनुष्य में विटामिन B2 की कमी होने लगती है तो, ग्लासिटिस मुख तथा ओंठो के कोनो पर दरारें चेहरे का स्थानगत तैल ग्रंथिय त्वचा शोध तथा कोर्निया का संवहनीभवन जैसे विकार उत्पन्न होने लगते हैं।
  2. एक प्रकार से मनुष्य को कीलोसिस नामक रोग हो जाता है, मनुष्य की मानसिक शक्ति कम होने लगती है, उसकी स्मरण शक्ति कम होने लगती है, उसका शरीर कमजोर होने लगता है और मानसिक कमजोरी आ जाती है।
  3. विटामिन B2 की कमी से जीभ पर बड़े-बड़े फफोले होने लगते हैं, जिनमें बहुत ही तीव्रता से दर्द होता है।
  4. बालों का झड़ना, टूटना बालों में रूखापन दिखाई देना आदि विकार विटामिन B2 की कमी के कारण ही होते हैं।
  5. उपापचय क्रिया का प्रभावित होना, शरीर की वृद्धि और विकास में अवरोध उत्पन्न हो जाना, मंद प्रकाश में व्यक्ति को दिखाई ना देना विटामिन B2 की कमी से हो जाते हैं।

विटामिन बी 2 की अधिकता से रोग Disease caused by excess of vitamin B2

विटामिन बी 2 शरीर के लिए आवश्यक विटामिन होता है किन्तु एक निश्चित मात्रा में ही। अगर विटामिन बी 2 आप शरीर में किसी भी प्रकार इंजेक्शन आदि से लें रहें है तो उसकी शरीर में अधिकता हो जाती है,

किन्तु शरीर उतना ही विटामिन का उपयोग करता है जितनी उसको आवश्यकता है, तथा अतिरिक्त विटामिन या तो शरीर के अंगों में स्टोर रहता है,

या जल में घुलनशील होने के कारण मूत्र के द्वारा शरीर से बाहर निकाल दिया जाता है। इसप्रकार विटामिन बी 2 की अधिकता से कोई घातक प्रभाव शरीर में नहीं होता किन्तु कभी - कभी एलर्जी हो सकती है।


विटामिन B2 के कार्य Functions of Vitamin B2

विटामिन B2 सह एंजाइमों फ्लेविन मोनोन्यूक्लियोटाइड (FMN) तथा फ्लेविन एडिनीन डाईन्यूक्लियोटाइड (FAD) का घटक होता है और यह सह एंजाइम मध्यवर्ती उपापचय में भाग लेते हैं। राइबोफ्लेविन के सभी जैविक कार्य इन दोनों से एंजाइम के माध्यम से ही संपादित होते हैं।

विटामिन बी 2 सिरदर्द तथा माईग्रेन की समस्या में बहुत लाभकारी होता है, इसलिए ऐसी स्थिति में डॉ द्वारा विटामिन बी 2 के कैप्सूल दिए जाते है।

आँखों के विभिन्न विकार आँखों की माशपेशियों को पुष्ट बनाने में मोतियाबिंद, जैसे रोगों में विटामिन B2 बहुत महत्वपूर्ण होता है।

विटामिन बी 2 शरीर की वृद्धि तथा विकास में महत्वपूर्ण योगदान देते है, कियोकि यह उपापचय क्रियाओं को प्रभावित करते है, शरीर में रक्त प्रवाह, लोहा की मात्रा का नियंत्रण, कोशिकाओं के निर्माण में सहयोग विटामिन बी2 द्वारा होता है, इसलिए विटामिन बी 2 एनीमिया नामक रोग को रोकता है, शरीर में ऊर्जा का संचार तथा शरीर मजबूत बनाता है।

विटामिन बी 2 की दैनिक आवश्यकता Daily requirement of vitamin b2

विटामिन बी 2 मानव शरीर में कई महत्वपूर्ण कार्य करता है, और इसकी अत्यधिक कमी होने पर व्यक्ति कई गंभीर रोगों से ग्रसित हो जाता है, इसलिए हमें विटामिन बी 2 युक्त खाद्य पदार्थो का सेवन अवश्य करना चाहिए। मानव शरीर के लिए

विटामिन बी 2 की आवश्यक मात्रा उम्र के आधार पर अलग - अलग होती है, जैसे वयस्क पुरुष के लिए 1.7mg प्रतिदिन तो वहीं महिलाओं के लिए 1.3mg प्रतिदिन जबकि बच्चों के लिए 0.8-1.2mg प्रतिदिन विटामिन बी 2 की आवश्यक मात्रा होती है।

दोस्तों यहाँ पर आपने विटामिन B2 का रासायनिक नाम (Chemical Name of Vitamin-B2) तथा अन्य तथ्य पढ़े। आशा करता हुँ, आपको यह लेख अच्छा लगा होगा।

  • इसे भी पढ़े :-
  1. विटामिन किसे कहते है प्रकार what is vitamin type
  2. विटामिन k का रासायनिक नाम कमी रोग Chemical name of Vitamin-K
  3. विटामिन ए का रासायनिक नाम कमी रोग लक्षण Chemical name vitamin-A
  4. विटामिन बी 1 का रासायनिक नाम कमी रोग लक्षण Chemical Name of Vitamin B1
  5. विटामिन सी क्या है कमी रोग लक्षण What is Vitamin -C

Post a Comment

और नया पुराने
close