सोना का रासायनिक नाम Chemical Name of Gold

सोना का रासायनिक नाम Chemical Name of Gold 

हैलो नमस्कार दोस्तों आपका बहुत - बहुत स्वागत है, इस लेख सोना का रासायनिक नाम (Chemical Name of Gold) में दोस्तों इस लेख में आप सोना का रासायनिक नाम, सोना का रासायनिक सूत्र,

के साथ ही सोना किसे कहते है? सोना कहाँ पाया जाता है? सोना के भौतिक, रासायनिक गुणों के साथ ही यौगिक तथा उपयोग के बारे में जान पाओगे। तो आइये करते है शुरू यह लेख सोना का रासायनिक नाम:-

उपधातु किसे कहते है उदाहरण

सोना का रासायनिक नाम

सोना किसे कहते हैं what is gold 

सोना एक पीले रंग की सबसे चमकदार आकर्षण, और मूल्यवान घातु तत्व है, जो प्रकृति में मुक्त अवस्था में पायी जाती है, जबकि इसे प्रयोगशाला में भी बनाया जा सकता है। मेंडलीफ की आवर्त सारणी में सोना

को ब्लॉक डी में स्थान मिला है, कियोकि इसका परमाणु क्रमांक 79 परमाणु भार 196.97 गलनांक 1063° सेंटिग्रेट और क्वथनांक 2970° सेंटिग्रेट होता है।

सोना का रासायनिक नाम

सोना का रासायनिक नाम और सूत्र Chemical Name of Gold and Formula 

सोना को अंग्रेजी में गोल्ड (Gold) कहा जाता है, जबकि इसका प्रतीक (Au) होता है जो लैटिन भाषा के शब्द Aurum से लिया गया है। इसलिए सोना का रासायनिक नाम ऑरम Aurum होता है,

जबकि इसका रासायनिक सूत्र (Au) है। सोना एक चमकदार आधातवर्ध धातु तत्व है, इसलिए इसका सबसे अधिक उपयोग आभूषण बनाने में किया जाता है।

सोना कहाँ पाया जाता है Where gold found 

सोना एक ऐसी धातु है जो प्रकृति में सर्वाधिक मुक्त अवस्था में तथा कुछ प्रतिशत संयुक्त अवस्था में भी पाई जाती है। इसका निष्कर्षण मुख्य रूप से इसके अयस्क केलावेराइट और सिल्वेनाइट से किया जाता है।

सोना मुख्य रूप से क्वार्टज के रूप में पृथ्वी के अंदर बड़ी-बड़ी खदानों के रूप में पाया जाता है। सोना के मुख्य उत्पादक देश के रूप में चीन, आस्ट्रेलिया, संयुक्त राज्य अमेरिका, रूस, दक्षिण अफ्रीका आता है,

किंतु सबसे अधिक स्वर्ण उपभोक्ता वाला देश भारत है, किंतु भारत में सोना केवल 2% तक ही उत्पादित किया जाता है। भारत में सबसे अधिक सोना कोलार कर्नाटक से उत्पादित किया जाता है।

सोना के भौतिक गुण Physical Propertiese of gold 

सोना एक ऐसी धातु है, जो प्रकृति में मुक्त अवस्था में पाई जाती है। यह कोमल, आघातवर्धनीय और चमकीले पीले रंग की दिखाई देती है। सोना धातु का सबसे प्रमुख गुण आघातवर्धनीयता और तन्यता होता है,

जिसके कारण इसका उपयोग विभिन्न प्रकार के आभूषण बनाने के लिए होता है। सोना धातु विद्युत और ऊष्मा की अच्छी सुचालक होती है, जिसका गलनांक 1063 डिग्री सेंटीग्रेड क्वथनांक 2600 डिग्री सेंटीग्रेड तथा विशिष्ट घनत्व 19.3 होता है। 

सोना के रासायनिक गुण Chemical Properties of gold 

सोना धातु वायु से किसी भी प्रकार की कोई अभिक्रिया नहीं करता है, किंतु पोटेशियम साइनाइड (KCN) या सोडियम सायनाइड (NaCN) में जब इसको घोला जाता है, तब यह पोटेशियम ओरोसायनाइड या सोडियम ओरोसाइनाइड का निर्माण करता है,

किंतु सोना क्षार (Base) के साथ भी कोई अभिक्रिया नहीं करता। सोना को अम्लराज में घोला जाता है, तब यह क्लोरोओरिक अम्ल का निर्माण करता है।

सोने की शुद्धता Purity of Gold 

सोने को अंग्रेजी में गोल्ड कहा जाता है, जो एक बहुत ही मूल्यवान धातु होती है, इसलिए इसका उपयोग मुख्य रूप से आभूषण बनाने के लिए किया जाता है।

सोने की शुद्धता का मापन कैरेट के द्वारा किया जाता है, जब सोना सौ परसेंट शुद्ध (100% Pure) होता है, तब उसे 24 कैरेट में आंका जाता है,

किंतु जब सोना 22 कैरेट होता है, तो यह माना जाता है कि इसमें 22 भाग सोना तथा दो भाग अन्य धातु है, इसी प्रकार से 20 कैरेट सोने में 20 भाग सोना और 4 भाग अन्य धातु मिली हुई होती है।

सोना के यौगिक Compound Of gold 

सोना के प्रमुख यौगिक निम्न प्रकार से हैं:-

  1. ओरिक क्लोराइड - ओरिक क्लोराइड सोने का यौगिक है, जिसका रासायनिक सूत्र (AuCl) होता है। ओरिक क्लोराइड का उपयोग सर्प विषरोधी सुई के निर्माण करने में होता है।
  2. रोल्ड गोल्ड - रोल्ड गोल्ड एक ऐसा सोना होता है, जिसको कृत्रिम सोने के नाम से जाना जाता है, अर्थात इसका निर्माण किया जाता है, यह प्रकृति में नहीं पाया जाता। इसमें 90% तक कॉपर और 10% तक एलमुनियम होता है, जो देखने में सोने के समान चमकदार लगता है। इसका सर्वाधिक उपयोग सस्ते आभूषणों के निर्माण में होता है।
  3. आयरन पाइराइट - आईरन पायराइट को झूठा सोना या बेवकूफो का सोना कहा जाता है, जिसका रासायनिक सूत्र FeS2 होता है। 

सोना के उपयोग Uses Of Gold 

सोना एक मूल्यवान धातु होती है, जिसका मुख्य रूप से उपयोग आभूषणों के निर्माण में किया जाता है, इसमें ताम्बा मिलाने से यह कठोर हो जाता है। सोने के सिक्कों के निर्माण करने में भी सोने का उपयोग होता है।

इसके साथ ही सोना के लवण फोटोग्राफी में भी काम में लाए जाते हैं। विद्युत लेपन में तथा किसी भी धातु पर सोने की परत चढ़ाने में भी सोने का उपयोग होता है।

कोलाइडी स्वर्ण कांच एवं चीनी उद्योग में भी इसका प्रयोग किया जाता है। सोने के वर्क पतली पन्नी छपाई और औषधियों के निर्माण में भी सोने का प्रयोग किया जाता है। 

दोस्तों आपने यहाँ सोना का रासायनिक नाम (Chemical Name of Gold) के साथ अन्य अथ्य पढ़े, आशा करता हुँ, आपको यह लेख अच्छा लगा होगा।

इसे भी पढ़े:-

  1. सीसा का रासायनिक सूत्र
  2. सोडियम सल्फेट का रासायनिक सूत्र
  3. सोडियम का रासायनिक सूत्र यौगिक तथा उपयोग

Post a Comment

और नया पुराने
Blogger sticky
close