विटामिन सी की कमी के लक्षण विटामिन सी क्या है what is Vitamin-C

विटामिन सी की कमी के लक्षण विटामिन सी क्या है what is Vitamin-C 

हैलो नमस्कार दोस्तों आपका बहुत - बहुत स्वागत है, इस लेख विटामिन सी क्या है? विटामिन सी की कमी के लक्षण (what is Vitamin-C deficiency disease symptoms) में। 

दोस्तों इस लेख के माध्यम से आप विटामिन सी क्या है? विटामिन सी का रासायनिक नाम, विटामिन सी के स्रोत, विटामिन सी के कार्य,

विटामिन सी की कमी के रोग, लक्षण आदि तथ्यों को जानेंगे। तो आइये दोस्तों करते है शुरू यह लेख विटामिन सी क्या है कमी रोग लक्षण:-

विटामिन सी क्या है


विटामिन सी क्या होता है what is Vitamin-C

विटामिन सी क्या है - विटामिन सी जल में घुलनशील (Water Soluble vitamin) एक कार्बनिक यौगिक (Carbonic Compound) होता है,

जिसकी सबसे पहले खोज तथा अध्ययन गायोंर्जी (Gayorji) ने किया था। उन्होंने 1928 ईस्वी में इसका पृथक्करण किया, किंतु विटामिन सी का संश्लेषण 1933 में रीचस्टीन (Richsteen)

नामक वैज्ञानिक ने किया था। विटामिन सी शरीर में विभिन्न प्रकार की बायोलॉजिकल (Biological) क्रियाओं के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है, सबसे प्रमुख इसका कार्य जीव धारियों की स्कर्वी नामक रोग से बचाव करना होता है।


विटामिन सी का रासायनिक नाम Chemical Name of Vitamin-C

विटामिन सी विटामिन बी काम्प्लेक्स (Vitamin-B Complex) की तरह जल में घुलनशील विटामिन होता है, जो शरीर में कई क्रियाओं को प्रभावित करता है।

विटामिन सी का रासायनिक नाम (Chemical Name) एस्कोरबिक एसिड (Ascorbic acid) जबकि विटामिन सी का रासायनिक सूत्र (Chemical Formula) C6H8O6 होता है।

विटामिन सी का गलनांक (Melting Point) लगभग 190 डिग्री सेंटीग्रेड और क्वथनांक (Boiling Point) लगभग 552 डिग्री सेंटीग्रेड होता है।


विटामिन सी की दैनिक आवश्यकता Daily requirement of vitamin-C

विटामिन सी शरीर में विभिन्न प्रकार की क्रियाओं जैसे कि, नई कोशिकाओं और एंटीबॉडीज (Antibody) के निर्माण में सहायक डेंटीन (Dentine) और कॉलेजन युक्त घावों के भरने में सहायक

के साथ अन्य विभिन्न प्रकार की प्रक्रियाओं में उल्लेखनीय भूमिका निभाता है, तथा एक स्वस्थ शरीर बनाने में अहम भूमिका देता है।

इसीलिए विटामिन सी (Vitamin-C) की आवश्यकता हमारे शरीर को होती है। एक बच्चे के लिए विटामिन डी की दैनिक आवश्यकता लगभग 40 माइक्रोग्राम प्रतिदिन तथा वयस्क के लिए 70 माइक्रोग्राम विटामिन सी की दैनिक आवश्यकता होती है।


विटामिन सी क्या है कमी रोग लक्षण

विटामिन सी के स्रोत Vitamin C Source 

विटामिन सी हमारे शरीर को रोग प्रतिरोधक क्षमता (immunity) प्रदान करने के साथ ही विभिन्न प्रकार के अंग तंत्रों के कार्यों को भी प्रभावित करता है,

तथा कई बायोलॉजिकल क्रियाओं (Biological Reaction) में अपना योगदान देता है, इसीलिए शरीर के लिए विटामिन सी बहुत ही आवश्यक होता है,

किंतु विटामिन सी का निर्माण शरीर के द्वारा नहीं किया जाता इसका शरीर में पहुंचना विभिन्न प्रकार के भोज पदार्थों के ग्रहण करने के फलस्वरूप होता है,

इसीलिए विटामिन सी की शरीर में पूर्ति करने के लिए विटामिन सी के स्रोत से युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करना होता है। विटामिंस सी पशुओं द्वारा प्राप्त होने वाले खाद पदार्थों में बिल्कुल भी नहीं मिलता है

किन्तु विटामिन सी के सबसे अच्छे स्रोत खट्टे फल (Citrus fruits,) वनस्पतियाँ होते हैं जैसे कि नींबू, टमाटर, मूली, सेव, हरी सब्जियाँ, अंगूर, नारंगी, संतरा, केला, सेव, कटहल, शलगम के पत्ता,

पालक, बंद गोभी आदि, किंतु जब सब्जी और पत्तियों को बारीक काटा जाता है और उन्हें छीलकर धोया जाता है, तब उनमें से विटामिन सी नष्ट हो जाता है।


विटामिन सी के फायदे Vitamin c benefits 

  1. विटामिन सी कार्टिलेज (Cartilage) डेंटाइन (Dentine) तथा अस्थि के अंतराकोशी पदार्थ एवं कोशिका भित्तियों की अखंडता को अनुरक्षित करने का कार्य करता है।
  2. विटामिन सी कॉलेजन (collagen) के संश्लेषण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। 
  3. रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करना और उपापचय क्रिया (Metabolism) को बढ़ाना विटामिन सी का ही कार्य होता है।
  4. विटामिन सी शरीर को रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) प्रदान करता है, जिससे शरीर बाहरी संक्रमण से बचाता है।
  5. विटामिन सी अधिकतर सामान्य रोग जैसे कि सर्दी जुखाम खांसी आदि से लड़ने की शक्ति और संक्रमण से बचने की शक्ति प्रदान करता है। 
  6. विटामिन सी के घावों को भरने में भी लाभकारी सिद्ध होता है, लाल रक्त कणिकाओं (Red Blood Cell) के अन्तःकोशिय मेट्रिक्स के निर्माण में सहायक होता है।
  7. विटामिन सी कोशिकीय श्वसन की क्रिया चक्र में सहायक का कार्य करता है और सफेद रवेदार कॉलेजन के निर्माण के लिए भी जरूरी होता है।
  8. मसूड़ों को स्वास्थ्य रखना त्वचा के रूखेपन को दूर करके त्वचा में नमी लाना, चेहरे से झुर्रियों को हटाना विटामिन सी का कार्य होता है।

विटामिन सी की कमी के लक्षण Vitamin-C Deficiency Symptoms 

जब शरीर में सामान्य से कम मात्रा में विटामिन सी होता है अर्थात शरीर में विटामिन सी की कमी होने लगती है तो कई प्रकार के घातक रोग शरीर में उत्पन्न होने लगते हैं जिन्हें हम निम्न प्रकार से समझते हैं:-

जब शरीर में सामान्य मात्रा से ही कम मात्रा में विटामिन सी होने लगता है, तब प्रमुख रूप से विटामिन सी की कमी से स्कर्वी (Scurvy) नामक रोग हो जाता है, इस रोग में मसूड़ों में रक्त आने लगता है।

विटामिन सी की कमी के कारण रक्त कोशिकाओं के निर्माण में भी बाधा पहुँचती है, जिससे रक्ताल्पता अर्थात एनीमिया (Anemia) होने का खतरा बढ़ जाता है। 

जब कहीं शरीर में चोट लग जाती है या शरीर में कोई घाव  (Wound) होता है, तब बिटामिन सी की कमी के कारण रक्त (Blood) देर में जमता है और घाव भी भरने में देरी हो जाती है।

कार्बोहाइड्रेट की उपापचय (Carbohydret Metabolism) में अनियमितताएँ उत्पन्न होने लगती हैं इसके साथ ही प्रोटीन उपापचय (Protien Metabolism) भी प्रभावित होता है, जिस कारण शरीर का वजन गिर जाता है और शरीर कमजोर (Weak)  होने लगता है।

विटामिन सी की कमी के कारण ही ब्लड प्रेशर हाई (High Blood Pressure) हो जाता है, नर्वस सिस्टम ठीक प्रकार से कार्य नहीं करता और रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है, जिससे व्यक्ति जल्दी ही विभिन्न रोगों से संक्रमित हो जाता है।


विटामिन सी की कमी का उपचार Vitamin-C deficiency treatment

जब शरीर में विटामिन सी की कमी के कारण विभिन्न प्रकार की अनियमितताएँ, तथा उक्त रोग दिखाई देने लगते हैं, तब आपको विटामिन सी की कमी का उपचार (Treatment) अवश्य ही करना चाहिए।

अगर शरीर में अधिक मात्रा में विटामिन सी की कमी है, तो आपको किसी योग्य चिकित्सक से अवश्य सलाह देनी चाहिए।इसके साथ ही विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थों (Vitamin-C Foods) का सेवन

लगातार करते रहना चाहिए, जिससे शरीर में विटामिन सी की कमी पूरी की जा सके। विटामिन सी की कमी होने पर आप को सबसे अधिक

खट्टे फलों का सेवन करना चाहिए, क्योंकि खट्टे फलों में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में होता है, अगर आपको विटामिन सी की कमी के घातक लक्षण दिखाई देते हैं तो डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।


विटामिन सी टेबलेट के फायदे Benefits of vitamin-C Tablet

जब आपको विटामिन सी की कमी  बहुत ही थोड़ी महसूस होती है, तो बाजार में विटामिन सी की टेबलेट भी उपलब्ध है, जो एंटीऑक्सीडेंट (Antioxident) की तरह कार्य करती है,

तथा शरीर में विभिन्न प्रकार के लक्षणों को दूर करने के लिए उत्तरदाई होती है। विटामिन सी की टेबलेट का सुबह प्रयोग करने से शरीर में रक्त की कमी के साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी होती है,

स्किन मुलायम और सुंदर बनती है, मसूड़े मजबूत तथा हड्डियाँ मजबूत होकर शरीर स्वस्थ होता है। मेडिकल स्टोर पर विटामिन सी की विभिन्न टेबलेट उपलब्ध है जैसे कि Limcee 500mg Orange Flavour Chewable Tablets 15'S, vitamin-C 1000 mg टेबलेट आदि। 

दोस्तों आपने इस लेख में विटामिन सी क्या है कमी रोग लक्षण (what is Vitamin-C deficiency disease symptoms) के साथ अन्य तथ्य पढ़े। आशा करता हुँ, आपको यह लेख अच्छा लगा होगा।

  • FAQ for Vitamin-C

Q.1. विटामिन सी का दूसरा नाम क्या है?

Ans. विटामिन सी का दूसरा और रासायनिक नाम एस्कार्बिक एसिड है।


Q.2. विटामिन सी के लिए क्या खाना चाहिए?

Ans. विटामिन सी के लिए अधिकतर खट्टे फल जैसे की आमला, अमरुद आदि खाना चाहिए।


Q.3. विटामिन सी वाली सब्जियों के नाम क्या है?

Ans. विटामिन सी कई सब्जियों में पाया जाता है, जिनमें टमाटर, आलू, हरी और लाल मिर्च, पालक, सरसों का साग, गोभी, बैगन आदिप्रमुख है।


Q.4. विटामिन सी की कमी से होने वाला रोग कौन सा है?

Ans. विटामिन सी की कमी से स्कर्वी नामक रोग हो जाता है।

  • इसे भी पढ़े:-

  1. विटामिन किसे कहते है, प्रकार What is Vitamin type
  2. विटामिन के क्या है कमी रोग लक्षणwhat is Vitamin-K
  3. विटामिन ए क्या है कमी रोग लक्षण What is vitamin-A
  4. विटामिन सी क्या है कमी रोग लक्षण What is vitamin-C
  5. विटामिन ई क्या है कमी रोग लक्षण What is Vitamin-E
  6. विटामिन डी क्या है कमी रोग लक्षण what is vitamin-D

Post a Comment

और नया पुराने
Blogger sticky
close