सूक्ष्म शिक्षण क्या है अर्थ परिभाषा what is micro teaching meaning definition

सूक्ष्म शिक्षण क्या है अर्थ परिभाषा


सूक्ष्म शिक्षण क्या है अर्थ परिभाषा what is micro teaching meaning definition

हैलो नमस्कार दोस्तों आपका बहुत-बहुत स्वागत है, आज के हमारे इस लेख सूक्ष्म शिक्षण क्या है अर्थ तथा परिभाषा (what is micro teaching meaning definition) में।

दोस्तों इस लेख के माध्यम से आप सूक्ष्म शिक्षण क्या है? सूक्ष्म शिक्षण का अर्थ क्या है? सूक्ष्म शिक्षण की परिभाषा के साथ ही

सूक्ष्म शिक्षण के घटक और सूक्ष्म शिक्षण की विशेषताएँ जानेंगे। तो आइए दोस्तों करते हैं, आज का यह लेख शुरू सूक्ष्म शिक्षण क्या है:-

विज्ञान क्लब क्या है

सूक्ष्म शिक्षण क्या है what is micro teaching 

माइक्रो टीचिंग क्या है - सूक्ष्म शिक्षण एक ऐसी तकनीक है, जिसके माध्यम से छात्राध्यापकों में विभिन्न प्रकार के शिक्षण कौशल विकसित किए जाते हैं।

उदाहरण के तौर पर उद्देश्य लेखन कौशल, प्रस्तावना कौशल, प्रश्नोत्तर कौशल, प्रदर्शन कौशल, पुनर्बलन कौशल, श्यामपट्ट कौशल, व्याख्या कौशल, छात्र सहभागिता कौशल शिक्षण सामग्री उपयोग कौशल, पाठ समापन कौशल आदि।

सूक्ष्म शिक्षण को अंग्रेजी में माइक्रो टीचिंग (Micro Teaching) कहा जाता है। जिसका अर्थ होता है, शिक्षण का वह लघु रूप जिसमें छात्राध्यापक द्वारा 5-6 मिनट का 5-10 छात्रों के लिए शिक्षण होता है।

जिसमें अनुभवी और बिना अनुभव वाले छात्राध्यापकों को नवीन शिक्षण कौशल के विकास और सुधार में विभिन्न प्रकार की सहायता प्राप्त होती हैं।

साधारण भाषा में कहा जा सकता है, कि सूक्ष्म शिक्षण एक ऐसी तकनीक है जिसके माध्यम से भावी अध्यापकों में उन शिक्षण कौशल को विकसित करना होता है जिनके माध्यम से वे

शिक्षण को प्रभावी बना सकें। सूक्ष्म शिक्षण में जो छात्राध्यापक होते हैं वे 5 या 10 छात्रों या अपने सहपाठियों को 5 या 6 मिनट के लिए पढ़ाते हैं।

इसके बाद उनके सहपाठियों तथा कक्षा अध्यापक के द्वारा उनके कार्य की प्रगति के बारे में बता दिया जाता है। जिसके अनुरूप छात्राध्यापक अपने शिक्षण में और बेहतर करने का प्रयास करते हैं।

इसलिए सूक्ष्म शिक्षण को एक प्रयोगशाला प्रविधि (Laboratory method) भी कहा जाता है। माइक्रो शिक्षण शिक्षक प्रशिक्षण में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है जिसके जन्मदाता डी. एलन (D. Allen) है।

डी. एलन स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में रुचिसन बुश के साथ मिलकर 1961 में सबसे पहले सूक्ष्म शिक्षण का संकुचित अभ्यास प्रारंभ किया।

के पश्चात 1963 में ए.डब्ल्यू. डवेट एलन ने इसकी व्याख्या की तथा इसको सूक्ष्म शिक्षण (Micro teaching) नाम दिया।  

सूक्ष्म शिक्षण का अर्थ Meaning of micro teaching 

सूक्ष्म शिक्षण एक ऐसी तकनीक है, जिसके माध्यम से महाविद्यालयों (Collage) में शिक्षक का प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे छात्राध्यापकों में शिक्षण कौशलों का विकास करना होता है।

इस तकनीक का स्वरूप छोटा होता है, जिसमें शिक्षण कार्य के लिए 5 या 10 छात्रों को चुना जाता है तथा छात्राध्यापक को अपने पाठक विषय को तैयार करने के लिए कहते हैं,

इसके बाद वह अपना शिक्षण कार्य उन 5 या 10 छात्रों के सामने प्रदर्शित करता है। इसके बाद उसके इस शिक्षण कार्य का मूल्यांकन होता है।

अगर उसका शिक्षण कार्य प्रभावपूर्ण, शिक्षण कौशल युक्त तथा सकारात्मक नहीं है तो छात्राध्यापक को शिक्षण प्रक्रिया को बार-बार करना होता है।

अतः  साधारण रूप से कह सकते हैं, कि सूक्ष्म शिक्षण पाठ योजना में निहित कौशलों का बारीकी से विकास करने की एक उत्तम प्रविधि है। 

सूक्ष्म शिक्षण की परिभाषा Definition of micro teaching 

  1. डी.डब्ल्यू.एलेन के द्वारा :- सूक्ष्म शिक्षण के जनक ने कहा है, कि सूक्ष्म शिक्षण नियंत्रित अभ्यास की एक प्रणाली होती है, जिसके अधीन नियंत्रित दशाओं में एक विशिष्ट शिक्षण व्यवहार को सीखना संभव हो जाता है।
  2. डॉ रॉबर्ट एन बुश के द्वारा - सूक्ष्म शिक्षण एक अध्यापक की प्रशिक्षण तकनीक होती है, जिसके अंतर्गत पाठ योजना की तैयारी के लिए पूर्व निर्धारित शिक्षण कौशलों को स्पष्ट रूप से प्रयोग में लाया जाता है, जिसमें क्रमानुसार अनेक पाठ अथवा 5-10 मिनट हेतु नियोजित किए जाते हैं। यह पाठ वास्तविक छात्रों के छोटे समूह को प्रदान किए जाते हैं। साथ ही साथ इन पाठों का मूल्यांकन दृश्यालेख पर देखे गए परिणाम के आधार पर किया जाता है।
  3. स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के द्वारा - सूक्ष्म शिक्षण अध्यापन अभ्यास कक्षा आकार तथा कक्षा अवधि में ही न्यूनीकृत अनुमाप है। 
  4. अरविन के अनुसार - सूक्ष्म शिक्षण वास्तविक कक्षा शिक्षण की अपेक्षाकृत एक अनुकरणीय शिक्षण है। 
  5. बी.के. पासी के द्वारा - सूक्ष्म शिक्षण एक ऐसी प्रशिक्षण तकनीकी है, जिसमें छात्राध्यापकों से यह आशा रखी जाती है कि वे किसी तथ्य को थोड़े से ही समय में विशिष्ट शिक्षण कौशल माध्यमों के द्वारा सिखा दें। 

सूक्ष्म शिक्षण के घटक Components of micro teaching 

शिक्षण के निम्नलिखित पाँच प्रकार के घटक हैं:-

  1. सूक्ष्म शिक्षण की परिस्थिति - सूक्ष्म शिक्षण के प्रथम घटक सूक्ष्म शिक्षण की परिस्थिति के अंतर्गत शिक्षण में उपयोग में लाई जाने वाली पाठक विषय वस्तु, कक्षा में विद्यार्थी, शिक्षण अवधि आदि को समाहित किया गया है।
  2. शिक्षण कौशल - शिक्षण कौशल घटक के अंतर्गत छात्राध्यापक द्वारा दिए जा रहे। प्रस्तुतीकरण में उसके द्वारा उपयोग में लाए जाने वाले शिक्षण कौशल पर ध्यान दिया जाता है, जैसे की व्याख्या कौशल, श्यामपट्ट कौशल, प्रश्न पूछने का कौशल इत्यादि।
  3. प्रशिक्षु शिक्षक - प्रशिक्षु शिक्षक वह होता है, जो शिक्षण का कार्य करता है, अर्थात छात्राध्यापक को ही प्रशिक्षु शिक्षक कहा जाता है।
  4. प्रतिपुष्टि के साधन - प्रतिपुष्टि साधन के अंतर्गत वीडियो टेप, ऑडियो टेप, प्रस्तावना प्रश्न का महत्वपूर्ण स्थान होता है, इनके माध्यम से प्रतिपुष्टि प्राप्त होती है।
  5. सूक्ष्म शिक्षण प्रयोगशाला - सूक्ष्म शिक्षण प्रयोगशाला में प्रतिपुष्टि की आवश्यक वस्तुओं को संचित करके रखा जा सकता है। जैसे कि ऑडियो टेप, वीडियो टेप, प्रस्तावना प्रश्नावली आदि।  

सूक्ष्म शिक्षण की विशेषताएँ क्या है Features of micro teaching 

  1. सूक्ष्म शिक्षण में शिक्षा का मुख्य उद्देश्य छात्राध्यापकों में शिक्षण कौशलों का विकास करना होता है।
  2. इस तकनीक के द्वारा शिक्षण कौशलों का विकास करके शिक्षार्थियों के अधिगम को अधिक प्रभावी बनाना ही इसका उद्देश्य है।
  3. सूक्ष्म शिक्षण तकनीकी के अंतर्गत पाठ योजना का निर्माण करना इसके पश्चात शिक्षण तथा निरीक्षण अत्यंत सूक्ष्मता के साथ किया जाता है।
  4. सूक्ष्म शिक्षण के दौरान छात्राध्यापक गलतियाँ करता है और गलतियों को सुधारना पड़ता है। इसके पश्चात वह प्रशंसा और सुझाव के आधार पर पृष्ठपोषण प्राप्त होता है।
  5. सूक्ष्म शिक्षण एक ऐसी तकनीकी होती है, जिसमें परिणाम संतोषप्रद प्राप्त न होने पर यह प्रक्रिया लगातार चलती रहती है। 
  6. सूक्ष्म शिक्षण के माध्यम से छात्राध्यापकों को समय-समय पर प्रेरणा मिलती है। उन्हें पृष्ठ पोषण द्वारा प्रशंसा और सुझाव प्राप्त होते हैं, जिससे वे अपने कौशल को और अधिक मजबूत बनाते हैं।
  7. सूक्ष्म शिक्षण द्वारा कम समय में शिक्षण कौशलों को विकसित कर प्रभावी अध्यापक तैयार किए जाते हैं, तथा उन्हें सेवारत अध्यापकों को शिक्षण कौशल की दृष्टि से दक्ष बनाया जाता है। 

दोस्तों आपने इस लेख में सूक्ष्म शिक्षण क्या है (what is micro teaching) सूक्ष्म शिक्षण का अर्थ एवं परिभाषा के साथ अन्य तथ्यों को पढ़ा। आशा करता हूँ, आपको यह लेख अच्छा लगा होगा।

इसे भी पढ़े:-

  1. आगमन विधि किसे कहते है, जानकारी
  2. निगमन विधि किसे कहते है जानकारी
  3. पाठ योजना क्या है इसकी आवश्यकता
  4. व्याख्यान विधि क्या है गुण दोष


Post a Comment

और नया पुराने
close