पारा धातु है या अधातु जानकारी Is mercury a metal or a non-metal information

पारा धातु है या अधातु जानकारी


पारा धातु है या अधातु जानकारी Is mercury a metal or a non-metal information

हैलो नमस्कार दोस्तों आपका बहुत - बहुत स्वागत है इस लेख पारा किसे कहते है, पारा धातु है या अधातु जानकारी में। इस लेख में पारा घातु क्या है? पारा कहाँ मिलता है?

पारा के भौतिक और रासायनिक गुण के साथ ही पारा के यौगिक तथा उपयोग के बारे में जान पायेंगे। तो आइये दोस्तों करते है शुरू यह लेख पारा किसे कहते है जानकारी:-

रसायन विज्ञानं की परिभाषा

पारा धातु है या अधातु है Is mercury a metal or a non-metal 

पारा एक ऐसी धातु है जो कमरे के तापमान पर द्रव अवस्था में रहती है। इसमें धातु के सभी गुण विधमान होते है जैसे की यह ऊष्मा तथा विधुत की सुचालक होती है।

पारा को अंग्रेजी में mercury कहते है, तथा Hg के संकेत के द्वारा प्रदर्शित करते है। पारा के अभी तक सात समस्थानिक Isotopes ज्ञात है।

पारा एक रासायनिक संक्रमण धातु तत्व है, जो मेंडलीफ की आवर्त सारणी Mendeleev's periodic table का अंतिम तत्व है।

इसका परमाणु क्रमांक 80 तथा परमाणु भार 200.59 होता है। जबकि इसका गलनांक -38.89 °C तथा क्वथनांक 356.58 °C होता है।

पारा कहाँ मिलता है where do you get mercury

पारा एक ऐसी धातु है जो प्रकृति में विस्तृत रूप में नहीं पायी जाती है। यह थोड़ी मात्रा में ही स्वतंत्र रूप में पाई जाने वाली एक धातु है

जो मुख्य रूप से अयस्क सिनेबार के रूप में पाया जाता है। पारे का सबसे बड़ा उत्पादक देश चीन, जापान, स्पेन संयुक्त राज्य अमेरिका, मैक्सिको तथा इटली है। 

पारा के भौतिक गुण Physical properties of mercury

पारा एक धातु होती है जो चांदी के जैसे सफेद दिखाई देती है। सभी धातुओं में पारा ही एक ऐसी धातु है, जो साधारण ताप पर द्रव अवस्था में रहती है

जिसका आपेक्षिक घनत्व 13.6 होता है तथा यह ऊष्मा और विद्युत की अच्छी सुचालक Good conductor होती है। पारा धातु एक परमाणु धातु होती है,

जब पारा को चर्बी या फिर चीनी के साथ मिलाकर हिलाया जाता है तब यह भूरे रंग के चूर्ण मैं बदल जाती है इस प्रक्रिया को मृतकीकरण deadning of Mercury कहा जाता है

पारा धातु में नहीं आधातवर्द्धयनीयता का गुण होता है और ना ही तन्यता का किंतु 4.12k तापमान पर पारा का प्रतिरोध शून्य हो जाता है।

पारा के रासायनिक गुण Chemical properties of mercury

पारा एक ऐसी धातु है जिस पर जल और अम्ल का कोई भी प्रभाव नहीं दिखाई देता, किंतु पारा धातुओं के साथ मिश्रित होकर अमलगम का निर्माण कर लेती है।

जब पारे की गंधक (सल्फर) के साथ अभिक्रिया कराई जाती है, तब मरक्यूरिक सल्फाइड का निर्माण होता है। इसी प्रकार क्लोरीन गैस के साथ क्रिया करने पर

मरक्यूरिक क्लोराइड का निर्माण पारा के द्वारा होता है। जब पारा की क्रिया ठंडे तनु नाइट्रिक अम्ल (HNO3) के साथ कराई जाती है,

तब मरक्यूरस नाइट्रेट और NO का निर्माण हो जाता है। परंतु जब पारा की क्रिया गर्म और सांद्र नाइट्रिक अम्ल से कराई जाती है,

तब यह मरक्यूरिक नाइट्रेट, NO तथा NO2 का निर्माण करती है। किन्तु पारे को अम्लराज में घोलने पर मरक्यूरिक क्लोराइड का निर्माण होता है। 

पारा के यौगिक Compounds of mercury

पारा के प्रमुख यौगिक निम्नप्रकार से है:- 

मरक्यूरस क्लोराइड Mercurous chloride

मरक्यूरस क्लोराइड अकार्बनिक यौगिक है जिसका रासायनिक सूत्र Hgcl2 है। इसको केलोमल के नाम से भी जाना जाता है,

जो सफेद रवेदार रंग का चूर्ण जैसा पदार्थ होता है। मरक्यूरस क्लोराइड जल तथा तनु अम्लों में अविलेय प्रकृति में प्रदर्शित करता है।

किंतु यह अम्लराज के साथ गर्म करने पर मरक्यूरिक क्लोराइड में बदल जाता है। मरक्यूरस क्लोराइड का उपयोग औषधियों के निर्माण में तथा कैलोमेल इलेक्ट्रोड के निर्माण में किया जाता है।

मरक्यूरिक क्लोराइड Mercuric chloride

मरक्यूरिक क्लोराइड को कोरोसिव सप्लीमेंट के नाम से जाना जाता है। जो एक भयंकर और अति घातक प्रकार का जहर बिष होता है।

मरक्यूरिक क्लोराइड एक रंगहीन तथा ऱवेदार ठोस जैसा पदार्थ होता है, जो ठंडे जल में कम किंतु गर्म जल में विलेय हो जाता है।

मरक्यूरिक क्लोराइड सोडियम हाइड्रोक्साइड NaOH से अभिक्रिया करके नेस्लर अभिकर्मक का निर्माण करता है।

मरक्यूरिक क्लोराइड का उपयोग अधिकतर कीटाणुनाशक (Disinfectant) के रूप में तथा सर्जिकल उपकरणों को साफ तथा स्वच्छता प्रदान करने के लिए किया जाता है।

मरक्यूरिक सल्फाइड Mercuric sulfide

मरक्यूरिक सल्फाइड को वरमेलियन के नाम से जाना जाता है, जिसका रासायनिक सूत्र HgS होता है। यह लाल रंग का दावेदार ठोस पदार्थ जैसा दिखाई देता है। जो जल और अम्ल में अविलेय होता है, किंतु अम्लराज में घुलकर मरक्यूरिक क्लोराइड का

निर्माण कर देता है। मरक्यूरिक सल्फाइड का अधिकतर उपयोग सिंदूर के रूप में ओषधियों में मकरध्वज के रूप में तथा जल रंग बनाने में किया जाता है।

अमलगम किसे कहते हैं What is amalgam

जब पारा अन्य धातुओं के साथ मिलकर मिश्रण या घोल बना लेता है तब उसको अमलगम कहा जाता है। सोना चाँदी तथा ताम्बा के साथ पारा का मिश्रण तथा अमलगम बनाकर उसका उपयोग डॉक्टरी गतिविधि दांतो में होता है।

पारा से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य Important facts about mercury

  1. पारा एक ऐसी धातु है जिसे लोहे के बर्तन में रखा जाता है क्योंकि यह लोहे के साथ अमलगम नहीं बनाता
  2. ट्यूबलाइट के निर्माण में पारा धातु की वाष्प तथा आर्गन गैस का मिश्रण भरा होता है।
  3. पारा धातु को क्विक सिल्वर (Quick silver) के नाम से जाना जाता है।
  4. बैरोमीटर (Barometer) में पारा के उपयोग किया जाता है जब बैरोमीटर में पारा की सतह ऊपर चढ़ती है तब मौसम साफ तथा सतह का उतरना तूफान का संकेत होता है।
  5. पारा का उपयोग डॉक्टरी थर्मामीटर में शरीर का तापक्रम मापने में होता है।

पारा का उपयोग Use of mercury

पारा धातु एक ऐसी धातु है जो सामान्य ताप पर द्रव अवस्था में होती है इसलिए इसका विभिन्न उद्देश्यों के लिए उपयोग किया जाता है।

इसकी द्रव अवस्था उच्च घनत्व वाष्पदाव के कारण पारे का उपयोग थर्मामीटर में बैरोमीटर में तथा अन्य यंत्रों में किया जाता है।

गैस को एकत्र करने में भी पारे का उपयोग अधिक महत्वपूर्ण सिद्ध होता है। धातुओं के साथ अमलगम निर्माण करने में चांदी और सोने के निष्क्रर्षण में सिंदूर के निर्माण में कस्टमर केलेनर विधि

द्वारा सोडियम हाइड्रोक्साइड के निर्माण में तथा मरकरी वाष्प लैंप के निर्माण में पारा धातु का उपयोग बड़े पैमाने पर किया जाता है।

पारा का उपयोग सायनाइड, सैलिसिलेट, आयोडाइड से युक्त औषधियों तथा कीटनाशक के निर्माण में चोट सम्बन्धी दवाओं के निर्माण में होता है। 

दोस्तों यहाँ पर अपने पारा धातु है या अधातु है (Is mercury a metal or a non-metal) इसके साथ ही पारा के बारे में अन्य महत्वपूर्ण तथ्यों को जाना आशा करता हूँ, आपको यह देख अच्छा लगा होगा।

इसे भी पढ़े:-

  1. मिश्रधातु किसे कहते है इसके प्रकार उपयोग
  2. नाइट्रोजन स्थरीकरण क्या है जानकारी
  3. रसायन विज्ञान का महत्व

Post a Comment

और नया पुराने
close