कंप्यूटर की भाषा तथा प्रकार

कंप्यूटर की भाषा तथा प्रकार Computer languages ​​and types 

दोस्तों नमस्कार आपका बहुत - बहुत स्वागत है, इस लेख कंप्यूटर की भाषाएँ तथा प्रकार में। दोस्तों इस लेख में आप कंप्यूटर भाषा किसे कहते है?

कंप्यूटर भाषा के प्रकार आदि के बारे में जान पायेंगे। तो आइये दोस्तों करते है, शुरू यह लेख कंप्यूटर की भाषाएँ तथा प्रकार:-

टेलीकॉन्फ्रेंसिंग क्या है इसके प्रकार

कम्प्यूटर भाषा किसे कहते है what is computer language

कंप्यूटर भाषा जिसे कंप्यूटर प्रोग्रामिंग भाषा भी कहा जाता है जो एक कंप्यूटर प्रोग्रामर के द्वारा कंप्यूटर से संवाद स्थापित करने वाला कोड होता है।

कंप्यूटर भाषा ही सॉफ्टवेयर संचार के बीच एक के सामंजस्य स्थापित करती है। तथा कंप्यूटर उपयोगकर्ता को कंप्यूटर डाटा प्रोसेस करने के लिए आवश्यक कमांड को पहचानने में मदद करती है। 

कंप्यूटर भाषा के प्रकार Types of computer language

कंप्यूटर की भाषाएं निम्न तीन प्रकार की होती हैं:-

मशीनी कूट भाषा (Machine code language)

कंप्यूटर की यह वह भाषा है जिसमें प्रत्येक आदेश के 2 भाग होते हैं जिनको आदेश कोड (Operation code) स्थिति कोड (Location code) कहा जाता है। जिनमें आदेश कोड को 0 द्वारा

तथा स्थिति कोड को 1 के द्वारा प्रदर्शित किया जाता है। कंप्यूटर की प्रारंभिक पीढ़ियों में कंप्यूटर को आदेश देने के लिए 0 और 1 के विभिन्न क्रमों का भी प्रयोग

किया जाता था। मशीनी कूट भाषा एक समयग्राही थी इसके कारण ही असेंबली भाषा और उच्च स्तरीय भाषाओं का विकास संभव हुआ।

एसेंबली भाषा (Assembly language) 

एसेंबली भाषा कंप्यूटर की वह भाषा है जिसमें एक कोड होता है जिसे याद करना पड़ता है जिसे निमोनिक कोड (Mnenomic code) के नाम से जाना जाता है।

जैसे कि Addition के लिए Add, Subtraction के लिए Sub और Jump के लिए jmp लिख दिया जाता है किंतु इन भाषाओं का प्रयोग निश्चित कर रचना वाले कंप्यूटर तक ही सीमित रहता है इसलिए इन भाषाओं को निम्न स्तरीय भाषा भी कहा जाता है।

उच्चस्तरीय भाषाएँ (High level languages)

उच्चस्तरीय भाषाएं कंप्यूटर के क्षेत्र में सबसे उपयोगी और महत्वपूर्ण भाषाएँ होती हैं जिनका विकास सबसे पहले आईबीएम IBM कंपनी के द्वारा किया गया।

आईबीएम कंपनी ने सबसे पहले फोरट्रान (Fortran) नामक उच्च स्तरीय भाषा का विकास किया। इसके बाद विभिन्न उच्च स्तरीय भाषाओं का विकास आरंभ हो गया

यह भाषाएं मनुष्य के बोलचाल लिखने में प्रयुक्त होने वाली भाषाओं के काफी पास थी कुछ उच्चस्तरीय भाषाएँ निम्न प्रकार से हैं:- 

फोरट्रान (Fortran) - फोरट्रान का पूरा नाम फार्मूला ट्रांसलेशन ( Formula Translation) है। जिस का संक्षिप्त रूप फोरट्रान (Fortran) होता है। फोरट्रान भाषा का विकास आईबीएम के जेडब्ल्यू बेकस ने 1957 में किया था।

जो गणित के सूत्रों को आसानी से और कम समय में हल करने के लिए प्रयोग में लाई जाती है इसका उपयोग वैज्ञानिकों के द्वारा भी विभिन्न प्रकार के अनुसंधान कार्यों में किया जाता है।

कोबोल (Cobol) - कोबोल का पूरा नाम कॉमन बिजनेस ओरिएंटेड लैंग्वेज ( common business oriented language) होता है जिसका संक्षिप्त रूप कोबोल है.

इस भाषा के संक्रिया में लिखे गए वाक्यों के समूह को पैराग्राफ और पैराग्राफ से मिलकर एक सेक्शन का निर्माण होता हैं तथा कई सेक्सन मिलकर डिवीजन बनाते हैं। इस भाषा का उपयोग अधिकतर व्यावसायिक क्षेत्रों में किया जाता है।

बेसिक (Basic) - बेसिक का पूरा नाम बिगनर्स ऑल पर्पस सिंबॉलिक इंस्ट्रक्शन कोड ( beginner's all purpose symbolic instruction code) होता है। बेसिक इसका संक्षिप्त रूप होता है।

इसका विकास John G. Kemeny and Thomas E. Kurtaz ने किया था। इसका उपयोग माइक्रो कंप्यूटर में वित्त डेटा ग्राफिक्स धोनी उत्पादक कंप्यूटर तथा अन्य कई उद्देश्यों हेतु होता है। 

अलगोल (Algol) - इसका पूरा नाम अलगेरिथमक लैंग्वेज (Algorithmic Language) होता है। अलगोल इसका संक्षिप्त रूप होता है। इस भाषा का उपयोग बीजगणित की गणनाओं के लिए किया जाता है।

पास्कल (Pascal) - इस भाषा को अलगोल भाषा का ही परिवर्तित रूप माना जाता है। इस भाषा में सभी चरों को परिभाषित किया गया है, जिसकारण यह अलगोल से भिन्न होती है।

इसका विकास निकलस रूथ ने किया था किन्तु इसका नाम फ्रांसीसी बैज्ञानिक ब्लेज पास्कल के नाम पर रखा गया है। आजकल भाषा का विकास अच्छे प्रोग्राम इन स्ट्रक्चर के लिए किया गया है। 

कोमाल (Comal ) - इसका पूरा नाम (common algorithmic language) होता है। इस भाषा का प्रयोग माध्यमिक स्तर के छात्रों के लिए होता है।

लोगो (Logo) - लोगो भाषा का प्रयोग छोटी उम्र के बच्चों के लिए ग्राफ़िक रेखाएं और शिक्षा देने के उपयोग में आता है।

प्रोलॉग ( Prolog) - इसका पूरा नाम प्रोग्रामिंग इन लॉजिक ( Programming in logic) होता है। इसका विकास फ़्रांस में 1973 में हुआ था। इस भाषा का उपयोग कृत्रिम बुद्धि के कार्यों में किया जाता है।

फोर्थ (Fourth) - इस भाषा का अविष्कार चार्ल्स मूरे ने किया था। जिसका उपयोग कम्प्यूटर के कई कार्यों में होता है।

दोस्तों इस लेख में आपने कंप्यूटर की भाषाएँ तथा प्रकार के बारे में पड़ा। आशा करता हुँ, आपको यह लेख अच्छा लगा होगा।

इसे भी पढ़े:-

  1. सूचना एवं संप्रेषण प्रौद्योगिकी क्या है
  2. हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर में अंतर