अग्नाशय किसे कहते हैं होर्मोन्स तथा कार्य what is pancreas hormones and function

अग्नाशय किसे कहते हैं होर्मोन्स तथा कार्य what is pancreas hormones and function 

हैलो दोस्तों आपका इस लेख अग्नाशय किसे कहते हैं होर्मोन्स तथा कार्य (What is pancreas hormonse and function) में, बहुत - बहुत स्वागत है। इस लेख में आप अग्नाशय ग्रंथि (Pancreas gland) किसे कहते है? 

अग्नाशय ग्रंथि से निकलने वाले होर्मोन्स (Hormonse) तथा उनके कार्यों के बारे में पढ़ेंगे, तो आइये दोस्तों शुरू करते है, आज का यह लेख अग्नाशय किसे कहते हैं? होर्मोन्स तथा कार्य:-

अग्नाशय किसे कहते हैं


अग्नाशय की संरचना Structure of pancreas 

अग्नाशय जिसे इंग्लिश में पैंक्रियाज (Pancreas) के नाम से जाना जाता है, एक ऐसी ग्रंथि है, जो अंतःस्रावी और बाहय स्रावी ग्रंथि के नाम से जाना जाता है।

क्योंकि यह ग्रंथि नालिकायुक्त और नालिकाविहीन दोनों प्रकार की होती है। अग्नाशय ग्रंथि के नालिकाविहीन भाग को लैंगर हैन्स के द्वीप समूह कहते है, जिसमें चार प्रकार की कोशिकाएँ होती हैं।

अल्फा कोशिकाएँ (Alpha cells) - अल्फा कोशिकाएँ नालिकाविहीन  भाग की प्रमुख कोशिकाएँ होती हैं, जो लगभग एक समान आकार की होती हैं।

यह कोशिकायें एक विशेष प्रकार की झिल्ली के द्वारा घिरी रहती हैं, जबकि इनको मैलोरी अजान अभिरंजक से लाल रंग में रंग सकते हैं। 

अल्फा कोशिकाओं से ग्लूकेगन (Glucagon) नामक हार्मोन स्रावित होता है, जो रक्त में ग्लूकोज की मात्रा को बढ़ाने का कार्य करता है।

क्योंकि ग्लूकेगन हार्मोन यकृत में ग्लाइकोजन (Glycogen) को तोड़ता है तथा तथा ग्लाइकोजन से मुक्त ग्लूकोज की मात्रा को रक्त में बढ़ाने का कार्य करता है, ग्लाईकोजन से ग्लूकोस निर्माण की प्रिक्रिया ग्लाईकोजिनेसिस (Glycogenesis) कहते है।

बीटा कोशिकायें (Beta cells)  - बीटा कोशिकाएँ लगभग 30 से 40% तक ही होती हैं, जो मैलोरी एजान अभिरंजक से रंगने पर नारंगी रंग की दिखाई देती हैं।

यह कोशिकाएँ लैंगर हैन्स द्वीप समूह (Langer Haines Islands) के बाहर पाई जाती हैं। जिनसे इंसुलिन (Insulin) हार्मोन स्रावित होता है, और इंसुलिन हार्मोन का सबसे प्रमुख कारण ग्लूकोज को ग्लाइकोजन में बदलना होता है।

इंसुलिन हार्मोन कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrate) के अतिरिक्त किसी अन्य पदार्थ से ग्लूकोज के निर्माण को रोकता है।

गामा या डेल्टा कोशिकायें (Gamma or delta cells) - गामा या डेल्टा कोशिकायें नालिकाविहीन भाग की तीसरे नंबर की कोशिकाएँ होती हैं, जो सोमेटोस्टेटिन (Somatostatin) हारमोंस का श्रावण करती हैं।

सोमेटोस्टेटिन हारमोंस अल्फा तथा बीटा कोशिकाओं से स्रावित होने वाले हारमोंस को रोकता है।

डी कोशिकायें (D.cells) -  डी कोशिकाएँ चौथे नंबर की कोशिकाएँ होती हैं, जो गेस्ट्रीन के समान हारमोंस के श्रावण को उत्पन्न करती हैं, जो गैस्ट्रिक रस के श्रावण को प्रभावित करता है।

अग्नाशय किसे कहते हैं होर्मोन्स तथा कार्य

अग्नाशय के प्रमुख कार्य Function of pancreas 

अग्नाशय ग्रंथि बाहय स्रावी (Exocrine Gland) और अंतः स्रावी ग्रंथि (Indocrind Gland) के रूप में कार्य करती है। अग्नाशय ग्रंथि अंतः स्रावी ग्रंथि के रूप में निम्न प्रकार के हार्मोन स्रावित करती है जिनके कार्य निम्न प्रकार से हैं।

  • ग्लूकेगॉन हारमोंस Glucagon hormones 

ग्लूकेगॉन हारमोंस अल्फा कोशिकाओं से स्रावित होने वाला एक पॉलिपेप्टाइड हारमोंस (Polypeptide Hormones) है, जिसमें लगभग 29 अमीनो अम्ल (Amino Acid) पाए जाते हैं।

जिसका अणुभार 3485 होता है, जबकि इसकी half-life 5 से 10 मिनट की है। ग्लूकेगॉन हारमोंस उस स्थिति में स्रावित होने लगता है,

जब रक्त में ग्लूकोज (Glucose) की मात्रा कम हो जाती है, किन्तु जब रक्त में ग्लूकोज की मात्रा अधिक हो जाती है, उस समय ग्लूकेगॉन हार्मोन स्रावित होना बंद हो जाता है।

यह ग्लूकेगॉन हारमोंस का श्रावण बंद होना इंसुलिन पर भी निर्भर करता है। ग्लूकेगॉन हारमोंस रक्त में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ाता है, जो इंसुलिन हारमोंस के विपरीत है।

इसलिए इस हार्मोन को इंसुलिन का एंटीडोज कहा जाता है, किंतु ग्लूकेगॉन हारमोंस मांसपेशियों में ग्लूकोज को की मात्रा नहीं बड़ा पाता है।

  • ग्लूकेगॉन हारमोंस के कार्य Functions of glucagon hormones

  1. ग्लूकेगॉन हारमोंस ग्लाइकोजेनेसिस (Glycogenesis) की प्रक्रिया को पूर्ण करता है, जो यकृत में होती है इस स्थिति में ग्लाइकोजन से ग्लूकोस का निर्माण होता है।
  2. इस होर्मोन्स का कार्य यकृत में ग्लाइकोजेनेसिस की प्रक्रिया को आगे बढ़ाना होता है।
  3. ग्लूकेगॉन हारमोंस प्रोटीन काइनेज एंजाइम को क्रियाशील बनाता है।
  4. ग्लूकेगॉन ही एडिनल साइकिलेज एंजाइम को क्रियाशील करके CAMP का निर्माण करता है।

  • इंसुलिन क्या होता है Insulin hormones 

इन्सुलिन हारमोंस जो अग्नाशय ग्रंथि के लैंगरहैन्स द्वीप समूह की बीटा कोशिकाओं (Beta cells) से निकलने वाला एक बहुत ही आवश्यक हारमोंस होता है,

जो रासायनिक रूप से पॉलिपेप्टाइड श्रृंखला है। इंसुलिन हार्मोन में अमीनो अम्ल की दो श्रृंखलाएं पाई जाती हैं, जो आपस में सल्फाइड बंध के द्वारा जुड़ी होती हैं।

इंसुलिन हार्मोन का स्राव और बीटा कोशिकाओं के  एंडोप्लास्मिक रेटिकुलम से होता है, जो यहाँ से स्रावित होने पर गोलजीबॉडी में संगठित हो जाता है।

इंसुलिन हार्मोन को स्रावित करने वाली जीन गुणसूत्र 11 नंबर पर पाई जाती है, जिसमें दो इंट्रोन पाए जाते हैं, जिन से प्रिप्रोइंसुलिन बनती है, जिसमें 23 अमीनो अम्ल पाए जाते हैं।

यह प्रिप्रोइंसुलिन लैंगरहैन्स द्वीप समूह के बीटा कोशिकाओं के एंडोप्लास्मिक रेटिकुलम (Endoplasmic reticulum) में प्रवेश करती हैं।

और पहुंचकर अमीनो अम्ल की दो श्रृंखलाएँ बना लेती हैं। इन दोनों श्रृंखलाओं को गॉलजीबॉडी (Golgi body) में प्रोइन्सुलिन तथा झिल्ली में इंसुलिन के नाम से जाना जाता है।

  • इंसुलिन हार्मोन के कार्य Function of Insulin Hormonse 

  1. इंसुलिन हार्मोन कार्बोहाइड्रेट मेटाबॉलिज्म (Metabolism) को प्रारंभ करता है, तथा ग्लूकोस का फास्फोराइलेशन करता है।
  2. इस हार्मोन का कार्य कोशिकाओं की झिल्ली को ग्लूकोज के अवशोषण की क्षमता बढ़ाना होता है।
  3. इंसुलिन हार्मोन अमीनो अम्ल पोटैशियम मैग्निशियम तथा फास्फेट की अवशोषण क्षमता बढ़ाता है
  4. डीएनए (DNA) के ट्रांसक्रिप्शन तथा एमआरएनए (mRNA) के ट्रांसलेशन को इन्सुलिन प्रभावित करना भी होता है।
  5. इंसुलिन हार्मोन ही आवश्यकता से अधिक ग्लूकोज को यकृत में ग्लाइकोजन में बदलती है, इसके साथ ही यह ग्लूकोज की अधिक मात्रा को वसा अमलों में भी बदल देती है।
  6. यह मांसपेशियों में ग्लाइकोजन के संग्रह को बढ़ाती है। जिससे मांसपेशियों में ग्लूकोज अधिक मात्रा में होता है.
  7. इंसुलिन हार्मोन की कमी से डायबिटीज मेलिटस (Diabetes mellitus) नामक बीमारी हो जाती है ,जिसे सामान्य भाषा में मधुमेह के नाम से भी जाना जाता है।

  • सोमेटोस्टेटिन Sometostetin hormones 

सोमेटोस्टेटिन हार्मोन लैंगरहैन्स द्वीप समूह की गामा कोशिकाओं से निकलने वाला हार्मोन से है जो अल्फा बीटा तथा डी कोशिकाओं से स्रावित होने वाले हारमोंस के श्रावण को कम करता है या रोकता है। 

अग्नाशय वाहय स्रावी ग्रंथि के रूप में भी कार्य करती है।अग्नाशय के गुच्छीका कोशिकाओं से अग्नाशयी रसों  जिन्हें एंजाइम का माना जाता है

जो मुख्यता प्रोटीन होते हैं, का श्रावण होता है जो सीधे छोटी आंत तक पहुंचते हैं। तथा प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और वसा के पाचन (Digetion) में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। अग्नाशयी रस में मुख्यतः निम्न प्रकार के एंजाइम पाए जाते हैं:- 

ट्रिपसीनोजन, काइमोट्रिप्सिन, तथा कार्बोक्सीपेप्टाईइडेज, प्रोटीन के पाचन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, यह प्रोटीन को अमीनो एसिड मैं तोड़ देते हैं।

एमाइलेज एंजाइम कार्बोहाइड्रेट के पाचन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, न्यूक्लियेज एंजाइम न्यूक्लिक एसिड को न्यूक्लिक अम्ल में तोड़ता है तथा लाइपेज एंजाइम वसा के पाचन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

दोस्तों आपने इस लेख मैं अग्नाशय ग्रंथि क्या है (What is Pancreas gland) अग्नाशय ग्रंथि के कार्य क्या है, अग्नाशय ग्रंथि के एंजाइम तथा हारमोंस के बारे में पढ़ा आशा करता हूँ, यह लेख आपको अच्छा लगा होगा।

  • FAQ For Pancreas

Q.1.शरीर में अग्न्याशय कहाँ है?

Ans. शरीर में अग्न्याशय आमाशय के ठीक नीचे तथा ग्रहणी को घेरे हुए स्थित होती है.

Q2. अग्नाशय का वजन कितना होता है?

Ans. अग्नाशय एक अन्तःश्रावी और बाहि:श्रावी दोनों प्रकार की ग्रंथि है, जिसका बजन लगभग 60 ग्राम होता है।

Q.3. अग्नाशयी रस में कौन सा एंजाइम होता है?

Ans. अग्नाशयी रस में मुख्यतः निम्न प्रकार के एंजाइम पाए जाते हैं:- ट्रिपसीनोजन, काइमोट्रिप्सिन, तथा कार्बोक्सीपेप्टाईइडेज 

  • इसे भी पढ़ें:-

Post a Comment

और नया पुराने
Blogger sticky
close