स्वास्थ्य क्या है इसके प्रकार what is health and its type

स्वास्थ्य क्या है इसके प्रकार


स्वास्थ्य क्या है इसके प्रकार what is health and its type 

हैलो दोस्तों आपका बहुत -बहुत स्वागत है। इस लेख स्वास्थ्य क्या है इसके प्रकार what is health and its type में।

दोस्तों इस लेख में आप स्वास्थ्य क्या है? स्वास्थ्य का अर्थ, स्वास्थ्य के प्रकार तथा परिभाषा जानेंगे। तो आइये पढ़ते है यह लेख स्वास्थ्य क्या है इसके प्रकार:-

वृषण और अंडाशय के कार्य

स्वास्थ्य क्या है what is health 

प्रत्येक व्यक्ति अपने आप को निरोग रखकर स्वस्थ रहना चाहता है। इसके लिए व्यक्ति हर एक संभव प्रयास भी करता है। क्योंकि कहा भी गया है, स्वास्थ्य ही धन है।

इसलिए लोग विभिन्न प्रकार के तौर तरीकों को भी स्वस्थ्य रहने के लिए अपनाते हैं। अतः आप कह सकते हैं, कि वह व्यक्ति जिसमें संपूर्ण शारीरिक मानसिक तथा सामाजिक कुशलता पाई जाती है।

उस व्यक्ति को स्वस्थ्य व्यक्ति कहा जाता है। तथा उस अवस्था को स्वस्थ्यता कहते है। स्वास्थ्य रहना नितांत आवश्यक है,

क्योंकि स्वास्थ्य मनुष्य परिवार, समाज और राष्ट्र के विकास के प्रति अपना योगदान दे पाता है। लेकिन आज की बात करें तो स्वास्थ्य एक चर्चा का ही विषय बनकर रह गया है।

लोग और अधिकारीगण तथा सरकार इसकी तरफ अधिक ध्यान नहीं देती है। इसलिए आज के समय में व्यक्तिगत स्तर नीचे गिरता जा रहा है।

जो धनवान लोग हैं वह किसी भी रोग से ग्रसित होने पर इलाज ठीक प्रकार से ले लेते हैं। किंतु जो लोग निर्धन है, वह इलाज के अभाव में मृत्यु को प्राप्त हो जाते हैं।

यधपि गरीब लोगों के लिए सरकार के द्वारा विभिन्न प्रकार के हॉस्पिटल्स स्वास्थ्य योजनाएँ चलाई जाती हैं। लेकिन भ्रष्टाचार के कारण सरकारी अस्पतालों में भी ठीक प्रकार से इलाज नहीं मिलता

यहाँ तक कि बहुत ही स्वास्थ्य सेवाएँ गरीब लोगों तक नहीं पहुंच पाती। सरकार के द्वारा स्वास्थ्य के प्रति जागरूक कार्यक्रम तथा विभिन्न प्रकार की गतिविधियां भी चलाई जाती हैं।

लेकिन उन गतिविधियों का ठीक प्रकार से लागू ना होना तथा उनका गतिविधियों का कठोरता से पालन ना किया जाना स्वास्थ्य में अनियमितताएं उत्पन्न कर देता है।

आज के समय में किसी भी देश की ताकत की मजबूती की बात करें तो वहाँ के लोगों के स्वास्थ्य पर ही निर्भर करती है।

क्योंकि सामाजिक, मानसिक और शारीरिक तीनों प्रकार का स्वास्थ्य मिलकर एक स्वास्थ्य शरीर का निर्माण करने के साथ एक व्यक्तित्व का निर्माण करते हैं।

और एक स्वस्थय शरीर तथा व्यक्तित्व वाला मनुष्य देश, समाज की प्रगति में उल्लेखनीय भूमिका निभाता है। इसीलिए साधारण शब्दों में कहा जा सकता है, कि स्वास्थ्य एक वह स्थिति है।

जिसमें मनुष्य सामाजिक मानसिक तथा शारीरिक रूप से हर एक कार्य करने के लिए संभव हो तथा समाज और देश के हित में योगदान दे।

स्वास्थ्य क्या है इसके प्रकार
स्वास्थ्य 

स्वास्थ्य का अर्थ Meaning of health 

स्वास्थ्य को अंग्रेजी में हेल्थ (Health) कहा जाता है और हेल्थ शब्द एंग्लो सैम्सन शब्द है। जिसको स्वास्थ्यता कि स्थिति के लिए प्रयोग किया जाता है।

इसलिए स्वास्थ्य का अभिप्राय निरोगता से भी है। साधारण शब्दों में स्वास्थ्य का अर्थ उस अवस्था से लगाया जाता है, जिस अवस्था में व्यक्ति का शरीर तथा मस्तिष्क (Mind) के समस्त कार्य कुशलतापूर्वक करने की क्षमता रखता हो।

स्वास्थ्य एक ऐसी दशा है, जिसे प्रायः सभी लोग परिभाषित करने में कठिनाई अनुभव करते हैं। साधारण शब्दों में कह सकते हैं, किसी भी शरीर का निरोग होना ही स्वास्थ्य है।

बहुत से विद्वान व्यक्तियों ने स्वास्थ्य का अर्थ बताया है, कि वह दशा जिसमें शरीर एवं मस्तिष्क की ऐसी व्यवस्था होती है, जिसमें वह किसी भी कार्य को ठीक प्रकार से संपन्न कर पाए उसे स्वास्थ्य कहते है।

स्वास्थ्य की परिभाषा Defination of health 

विभिन्न विद्वानों वैज्ञानिकों तथा स्वास्थ्य संगठनों के द्वारा स्वास्थ्य की अलग-अलग परिभाषाएँ दी गई हैं। जिनमें से कुछ प्रमुख परिभाषाएँ निम्न प्रकार से हैं:-

  1. विश्व स्वास्थ्य संगठन के द्वारा - शरीर को सभी प्रकार के रोगों से बचा कर रखना और आशक्त ना होना ही स्वास्थ्य नहीं है, वरन स्वास्थ्य से अभिप्राय संपूर्ण शारीरिक, मानसिक और सामाजिक स्वास्थ्य से होता है।
  2. जे. एस.विलियम्स के द्वारा - स्वास्थ्य जीवन का वह एक गुण है जो व्यक्ति को अधिक समय तक जीवित रहने और सर्वोत्तम प्रकार से सेवा करने के योग्य बनाता है।
  3. वेबस्टर के द्वारा - स्वास्थ्य शरीर मन व आत्मा में स्वास्थ्य तथा निरोगता की अवस्था कहलाती है। मुख्यत: शारीरिक रोग अथवा दर्द का अभाव ही स्वास्थ्य होता है।
  4. स्वास्थ्य के बारे में स्वामी विवेकानंद जी ने भी कहा है,कि एक कमजोर आदमी किसका शरीर या मन कमजोर है वह कभी भी मजबूत काया का मालिक नहीं बन सकता है।

अतः आप ऊपर दी गई परिभाषाओं के आधार पर यह अनुमान लगाया जा सकता है, यह कहा जा सकता है, कि स्वास्थ्य एक दशा है। जिसके अंतर्गत सामाजिक मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को समाहित किया गया है।

स्वास्थ्य के प्रकार type of health 

स्वास्थ्य के कई प्रकार हैं, जबकि स्वास्थ्य संगठनों के द्वारा बताया गया है कि स्वास्थ्य के मुख्यतः तीन प्रकार हैं, जिन्हें हम प्रकार से समझ सकते हैं:-

शारीरिक या भौतिक स्वास्थ्य Physical health

शारीरिक स्वास्थ्य क्या है - शारीरिक और भौतिक स्वास्थ्य को समझ पाना बड़ा ही सरल है, क्योंकि इसका अर्थ होता है, शरीर के सभी अंगों और तंतुओं का शरीर में परस्पर पूर्ण सहयोग।

जिससे वह व्यक्ति किसी भी कार्य को सफलतापूर्वक संपन्न कर पाए। साफ-सुथरी त्वचा, चमकदार आंखें, संतुलित सुगठित शरीर, कांतिमय चेहरा और बाल पर्याप्त भूख लगना,

शरीर के सभी अंगो का सुचारू रूप से कार्य करना, मलाशय और मूत्राशय दोनों का नियमित रूप से कार्य करना तथा ज्ञानेंद्रियों के द्वारा शरीर के सही क्रियान्वयन आदि सभी शारीरिक स्वास्थ्य के लक्षण होते हैं।

मानसिक स्वास्थ्य Mental health

मानसिक स्वास्थ्य क्या है - मानसिक स्वास्थ्य से आशय उस स्वास्थ्य से है, जिसमें मनुष्य का बाहरी दुनिया से सही तालमेल होता है।

मानसिक स्वास्थ्य के द्वारा ही मनुष्य अपने वाह वातावरण तथा अन्य मनुष्यों से सही प्रकार से तालमेल समझौता और सामंजस्य स्थापित करता है।

मानसिक स्वास्थ्य में किसी भी प्रकार के मानसिक रोग जैसे कि तनाव और चिंता के साथ ही विभिन्न प्रकार की मानसिक व्याधियाँ नहीं होती हैं।

मानसिक स्वास्थ्य (Mental health) उत्तम होने पर शरीर भी ठीक प्रकार से कार्य करता है, तथा शरीर की सभी क्रियाएँ नियमित रूप से चलती है।

सामाजिक स्वास्थ्य Social health 

सामाजिक स्वास्थ्य क्या है - मानसिक स्वास्थ्य और शारीरिक स्वास्थ्य के साथ सामाजिक स्वास्थ्य भी सभी मनुष्यत, प्राणियों के लिए बहुत ही आवश्यक होता है।

क्योंकि मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है, इसलिए मनुष्य को समाज में स्वयं को प्रतिस्थापित करने के लिए, समाज में अपने परिवार की पहचान के लिए, आनंददायक जीवन यापन

करने के लिए और एक अच्छा माहौल तैयार करने के लिए सामाजिक स्वास्थ्य उत्तम बनाना होता है। उपर्युक्त सभी पहलू सामाजिक स्वास्थ्य के अंतर्गत ही आते हैं।

अगर मनुष्य समाज के साथ अच्छा तालमेल बिठा आता है और समाज में अपनी अच्छी प्रतिष्ठा बनाता है तो उस मनुष्य का सामाजिक स्वास्थ्य भी उत्तम माना जाता है।

इन तीन स्वास्थ्य प्रकार के बाद भी दो स्वास्थ्य जैसे आध्यात्मिक पहलू और भावनात्मक पहलुओं को भी स्वास्थ्य के प्रकारों में शामिल किया गया है। आध्यात्मिक पहलू मानसिक शांति मानसिक स्वास्थ्य के अंतर्गत आती है।

इसमें अध्यात्म मानसिक शांति प्रदान करता है। जबकि भावात्मक पहलू को मानसिक स्वास्थ्य के साथ ही समाहित किया गया है। जहाँ पर मस्तिष्क का संबंध सत्य को जानने समझने में भावनाओं का संबंध दिल के भावों से होता है।

स्वास्थ्य का महत्व Importence of health

मनुष्य को अपने जीवन में स्वास्थ्य रहना चाहिए कियोकि कहा जाता है स्वास्थ्य शरीर में ही स्वास्थ्य मस्तिष्क का वास होता है, और मस्तिष्क ही शरीर की सभी क्रियाओं का नियमन करता है।

इसलिए शारीरिक रूप से स्वास्थ्य होने के साथ सभी को मानसिक रूप से भी स्वास्थ्य होना चाहिए। कियोकि स्वास्थ्य रहने से आप पूरी तरह से अपने कार्यों पर ध्यान दे पायेंगे, कोई भी रोग आपको नहीं सताएगा।

नित्य प्रति सुबह उठना, व्यायाम करना, नहाना संतुलित आहार करना घर, तथा शरीर की सफाई करना आदि स्वास्थ्य रहने के उपाय है।

जो व्यक्ति स्वास्थ्य होता है, उसके शरीर की सभी क्रियाये ठीक चलती है, उसमें चिड़चिड़ापन, नहीं होता, वह कार्य करने में आलस्य तथा थकान महसूस नहीं करता। इसलिए एक अच्छे जीवन के लिए स्वास्थ्य रहना बहुत महत्वपूर्ण है। 

दोस्तों इस लेख में स्वास्थ्य क्या है इसके प्रकार (what is health and its type) तथा अन्य तथ्यों के बारे में पड़ा। आशा करता हुँ, आपको यह लेख पसंद आया होगा।

इसे भी पढ़े:-

  1. मृदा प्रदूषण किसे कहते है
  2. वायु प्रदूषण किसे कहते है
  3. ध्वनि प्रदूषण किसे कहते है


Post a Comment

और नया पुराने
close