ई-लाइब्रेरी क्या है अर्थ | What is E- library meaning

ई-लाइब्रेरी क्या है अर्थ


ई-लाइब्रेरी क्या है अर्थ What is E- library meaning 

हैलो दोस्तों इस लेख ई-लाइब्रेरी क्या है? What is E-library ई-लाइब्रेरी का अर्थ में आपका बहुत-बहुत स्वागत है। इस लेख में हम आपको ई- लाइब्रेरी क्या है?

इसके लाभ तथा दोष के बारे में सीधी सरल भाषा में बताने जा रहे हैं। जो ज्ञान की सुविधा से आपके लिए बहुत ही अच्छा और लाभदायक होगा।

ई-लाइब्रेरी को हिंदी में इलेक्ट्रॉनिक पुस्तकालय भी कहा जाता है। क्योंकि यह एक इंटरनेट के माध्यम से पूर्ण होने वाली प्रक्रिया है, तो दोस्तों आइए जानते हैं, ई-लाइब्रेरी क्या है? इसका अर्थ:-

शिक्षा मनोविज्ञान क्या है इसकी परिभाषा

ई-लाइब्रेरी का अर्थ meaning of E-library

ई-लाइब्रेरी से मतलब उस डिजिटल लाइब्रेरी (Digital library) से है, या डिजिटल पुस्तकालय से हैं, जहाँ पर हमें फिजिकल रूप से जाना नहीं पड़ता

तथा 365 दिन हम 24 घंटे इस लाइब्रेरी का उपयोग कर सकते हैं, तथा अपने अनुसार अध्ययन सामग्री प्राप्त कर सकते हैं। ई - लाइब्रेरी का अर्थ एक ऐसी लाइब्रेरी से है,

जहाँ पर डिजिटल रूप से सूचना और अध्ययन सामग्री एक्सेस की जाती है। इस लाइब्रेरी में इंटरनेट कनेक्शन के द्वारा कंप्यूटर या फिर एंड्राइड मोबाइल के द्वारा

हम कहीं पर भी देश के किसी भी कोने में बैठ कर किसी भी समय अपने अनुसार सूचना तथा अध्ययन सामग्री प्राप्त कर सकते हैं।

शैक्षिक अवसरों की समानता

ई-लाइब्रेरी (इलेक्ट्रॉनिक लाइब्रेरी ) क्या है what is E-library

ई-लाइब्रेरी का विस्तृत रूप इलेक्ट्रॉनिक लाइब्रेरी है (Electronic library) तथा हिंदी में इसे इलेक्ट्रॉनिक पुस्तकालय भी कहा जाता है।क़्योकी इसके नाम से ही स्पष्ट होता है,

कि वह लाइब्रेरी जिसमें इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों एवं स्रोतों के द्वारा अधिगम या ज्ञान प्राप्त करते है, इलेक्ट्रॉनिक लाइब्रेरी या ई-लाइब्रेरी के अंतर्गत आता है।

दुसरे शब्दों में कह सकते है कि इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों या स्रोतों जैसे कम्प्यूटर (Computer) मोबाइल (Mobile) टी.वी. (Telivision) रेडियो (Radio) आदि के माध्यम से कई प्रकार कि सूचनाएँ तथा विभिन्न क्षेत्रों का ज्ञान प्राप्त करना ई-लाइब्रेरी का भाग है।

ई-लाइब्रेरी में सभी स्तर के अनुसार अधिगम सामग्री उपलब्ध कराई जाती है। इसमें आप प्राथमिक स्तर से लेकर उच्च स्तर तक तथा अनुसंधानकर्ताओं के लिए भी हर प्रकार की सामग्री उपलब्ध रहती है।

ई-लाइब्रेरी अनुसंधान कार्य (Research work) को अत्यंत सरल बना देती है। क्योंकि इसके द्वारा समस्त प्रकार की अधिगम और अनुसंधान संबंधित सूचनाएँ तथा लिखा हुआ लेख अधिगमकर्ताओं तक बहुत ही आसानी से पहुँच जाता है।

ई-लाइब्रेरी द्वारा अधिगम या ज्ञान प्राप्त करने के लिए कुछ माध्यमों (Mediums) की आवश्यकता होती है, जैसे- कंप्यूटर मोबाइल फोन, बहु माध्यम नेटवर्किंग आदि इन सभी की सहायता से ई-लाइब्रेरी बहुत ही सरल और आसान बन गयी है।

ई-लाइब्रेरी में नवीनतम सूचनायें पूरी किताब के रूप में लगभग 7000 मिलियन से अधिक नक्शे में उपलब्ध हैं, कोई भी प्रश्न डालकर हम ई लाइब्रेरी के माध्यम से उस प्रश्न से संबंधित अनेक किताबों का विस्तृत अध्ययन कर सकते हैं।

तथा इस प्रकार की लाइब्रेरी से संबंधित सूचना हम कंप्यूटर, लैपटॉप, आधुनिकतम स्मार्टफोन के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं, और उसके बारे में जान सकते हैं।

इलेक्ट्रॉनिक लाइब्रेरी में शिक्षार्थी को गतिशीलता तथा अन्य तकनीकी अंतःक्रिया पर बल दिया जाता है। यह विशिष्ट आवश्यकता वाले विद्यार्थियों के लिए बहुत आवश्यक और महत्वपूर्ण है।

इलेक्ट्रॉनिक लाइब्रेरी में आप मैगजीन, जर्नल समाचार, पत्र, किताब आदि से संबंधित सभी प्रकार की सामग्री प्राप्त कर सकते हैं, जिससे अधिगमकर्ताओं के समय की भी बचत होती है

तथा पैसे की भी बचत होती है और विभिन्न प्रकार के अवसादों से घिरने से भी बच जाते है। इसलिए अधिगम प्राप्ति का सबसे बेस्ट स्रोत ई-लाइब्रेरी ही है। 

ई-लाइब्रेरी से सूचनाओं को प्राप्त करने के स्रोत Sources for receiving information from E-library 

ई-लाइब्रेरी के माध्यम से प्रत्येक स्तर की सूचनाओं को प्राप्त करने के लिए विशेष प्रकार के माध्यमों की आवश्यकता होती है, जो निम्न प्रकार हैं:-

  1. मैगजीन द्वारा - विभिन्न प्रकार की मैगजीन (Magazine) से आप घर बैठ कर हर प्रकार की सूचनाओं को प्राप्त कर सकते हैं तथा हर एक विषय से सम्बंधित सूचना इसमें होती है।
  2. समाचार पत्र द्वारा - समाचार पत्र ई-लाइब्रेरी का सबसे सशक्त माध्यम है जिससे विभिन्न प्रकार की घटनाओं के बारे में आप अपने मोबाइल कंप्यूटर पर ही जान सकते हैं।
  3. किताब के द्वारा - ई-लाइब्रेरी के माध्यम से विभिन्न प्रकार की किताबे हमें देखने को मिल जाती हैं जिससे बहुत कुछ सीख सकते हैं।
  4. नक्शों के द्वारा - ई-लाइब्रेरी के माध्यम से विभिन्न प्रकार के नक्शे हमें उपलब्ध हो जाते हैं जो अनुसंधान, भूगोल, इतिहास आदि कई विषयों से संबंधित होते हैं।
  5. टीवी और रेडियो द्वारा - टीवी और रेडियो के द्वारा भी हमें विभिन्न प्रकार की सूचनाएँ ज्ञानवर्धक जानकारियाँ प्राप्त होती हैं, जो इलेक्ट्रॉनिक लाइब्रेरी के माध्यम का ही प्रमुख भाग हैं।
  6. वेबसाइट के द्वारा -  वेबसाइट के द्वारा भी विभिन्न प्रकार की सूचनाएँ हर एक माध्यम कंप्यूटर मोबाइल आदि के द्वारा प्राप्त कर सकते है।

ई-पुस्तकालय का महत्व importence of E-library 

ई-लाइब्रेरी को हिंदी में ई-पुस्तकालय इलेक्ट्रॉनिक पुस्तकालय के नाम से जाना जाता है, आज के युग में डिजिटलाइजेशन (Digitization) अत्यधिक तीव्र गति से बढ़ता जा रहा है।

जिसका एक परिणाम ई-पुस्तकालय या ई लाइब्रेरी भी है। जिसे हम पुस्तकालय के नाम से भी जानते हैं। ई-पुस्तकालय का आज के समय में बहुत महत्व है,

आज के युग में हर एक व्यक्ति अपने काम में बिजी रहता है और वह अपने ज्ञान को बढ़ाने के लिए पुस्तकालय (Librery) तक जाने का समय भी नहीं निकाल पाता है।

इसीलिए उनके लिए ई-पुस्तकालय बहुत ही महत्वपूर्ण है। ई-पुस्तकालय एक इलेक्ट्रॉनिक पुस्तकालय है, जहाँ पर आप किसी भी विषय से संबंधित सूचना सामग्री घर बैठे मोबाइल से कंप्यूटर की सहायता से

इंटरनेट के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं। पुस्तकालय का महत्व प्रत्येक क्षेत्र में है, चाहे वह शिक्षा का क्षेत्र हो या फिर अनुसंधान का या फिर मनोरंजन का

इलेक्ट्रॉनिक पुस्तकालय के जरिए आप सभी प्रकार की सामग्री घर बैठे कहीं पर भी किसी भी समय प्राप्त कर सकते हैं और अपने ज्ञान में बृद्धि कर सकते है। 

ई-लाइब्रेरी के लाभ Benefit of E-library 

  1. लाइब्रेरी के द्वारा छात्र को अपने समय, स्थान व गति के अनुसार भी ज्ञान प्राप्त हो जाता है।
  2. इलेक्ट्रॉनिक माध्यम ही एक ऐसा माध्यम है जिसमें आप सीडी, रोम, डीवीडी, इंटरनेट मोबाइल लैपटॉप कंप्यूटर का प्रयोग करने से छात्रों में कई प्रकार की अधिगम संबंधी स्थाई रोचक गतिविधियाँ जागती हैं।
  3. इसके द्वारा ऑनलाइन संप्रेषण (Online communication) की क्रिया भी संपादित होती है।
  4. इलेक्ट्रॉनिक लाइब्रेरी पठन सामग्री के लिए नवीनीकरण और सहायक सामग्री भी घोषित हो चुकी है।
  5. इसमें विद्यार्थियों का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन भी कराया जाता है जो नई सूचना लाइब्रेरी में अपडेट होती हैं वह एसएमएस (SMS) के माध्यम से स्टूडेंट तक पहुंच जाती हैं।
  6. ई लाइब्रेरी द्वारा अधिगमकर्ताओं को उनकी व्यक्तिगत विभिन्नता एवं आवश्यकताओं के अनुसार अनुभव प्राप्त करने के लिए वेबसाइट (Website) पर कई प्रकार की सामग्री उपलब्ध रहती है।
  7. संस्कृति, स्थान तथा अधिगम शैली में विभिन्नता होने के कारण भी अधिगमकर्ताओं को अधिगम में लाभ मिलता है। 

ई-लाइब्रेरी के दोष - Defects of E-library -

ई लाइब्रेरी से सूचना या अधिगम प्राप्त करने के लिए किसी माध्यम जैसे - कंप्यूटर, लैपटाप तथा मोबाइल का प्रयोग किया जाता है,

इसलिए आपको कंप्यूटर, लैपटॉप, मोबाइल आदि की तकनीकी में विशेष योग्यता होनी चाहिए।

ई लाइब्रेरी का प्रयोग उन विद्यार्थियों के लिए घातक है जो अपनी जिम्मेदारी नहीं समझते हैं।

इसमें प्रोत्साहन का अभाव रहता है इसलिए बहुत से विद्यार्थी इसका उपयोग नहीं कर पाते है।

ई लाइब्रेरी का प्रयोग करने के लिए अनुभवी शिक्षकों की आवश्यकता होती है जिन का अभाव है।

दोस्तों आपने इस लेख में ई-लाइब्रेरी क्या है? (what is E-librery) इसके गुण तथा दोष के बारे में जानकारी प्राप्त की आशा करता हुँ कि यह जानकारी आपको अच्छी लगी होगी कृप्या कमेंट तथा शेयर जरूर करें।

इसे भी पढ़े:-

  1. समावेशी शिक्षा क्या है इसके सिद्धांत
  2. ई-मेल की संपूर्ण जानकारी तथा अर्थ
  3. विश्वविद्यालय शिक्षा आयोग 1948-49


Post a Comment

और नया पुराने
Blogger sticky
close